शुक्रवार, दिसंबर 31, 2010

ASHANTI

                                                   अशांति
                        तृष्णा में खोए हैं सब ,
                                            न किसी के मन को शांति है .
                 जितना पा लेता है जो ,
                                                  उतना ही खो देता है वो .
                 पाता है वो भौतिकता को ,
                                                  खो देता है नैतिकता को .
          सुख खोज रहा धन - दौलत में ,
                                                  ये उसके दिल की भ्रान्ति है .
              तृष्णा में खोए ........................................................
        "कायत" , मानवता की सोचें ,
                                              न धन के पीछे दौड़ें सब .
       प्रेम -मिलाप का सबक सीखें ,
                                             ईर्ष्या-द्वेष को छोड़ें अब .
        पहले आजादी तन की पाई ,
                                           ये मन की आजादी की क्रांति है.
         तृष्णा में खोए हैं सब , न किसी के मन को शांति है.
                                         न किसी के मन को शांति है.            
                                 

गुरुवार, दिसंबर 30, 2010

GAFLAT

                                                   ग़फलत
                      जाने कौन, कहाँ हूँ मैं ,
                                                              अब तलक भ्रमों में ही रहा हूँ मैं . - २ 
                    मतलब परस्त थी चाह उनकी , 
                                                                अपनों को गैर समझने लगा सनकी .
                 ग़फलत में था जिन्हें अपना जाना, 
                                                                       शिरकत में था उनकी ठुकराना .
                जानता हुए भी बहाव का रुख ,
                                                                        विपरीत दिशा में ही बहा हूँ मैं .
                 जाने कौन .........................................................................................
                        संगदिल के तंगदिल की ,
                                                                                 देखो तो जरा अदावत .
                      खुद बरपाया कहर इश्क पे ,
                                                                          इलज़ाम नाचीज पे है बगावत .
                    कैसे क़ैद रखें अरमान "कायत" ,
                                                                            जिस्म तो बंधुआ हो भी जाए .
                     साथ रहे तेरी वफाओं का सिला ,
                                                                                 जिंदगी चाहे खो भी जाए .
                      इक बार में भंगुर नहीं हुआ ,      
                                                                        पल-पल, छिन-छिन दहा हूँ मैं .
                       जाने कौन , कहाँ हूँ मैं    -  अब तलक भ्रमों में ही रहा हूँ मैं .                   

बुधवार, दिसंबर 29, 2010

BADLAV

                                                            बदलाव 
             बदल डालो !
                                   ऐसे भ्रष्टाचारी समाज को ,
                 जहां भगवान भी लुटता है.
                  पैसे से,  
                     प्यार व ईमान बिकता है .
                   हम कैसे भर सकते हैं ?
                                                किसी में ,
                         राष्ट्र प्रेम की भावना 
                  जब हमें खुद देश से प्यार नहीं .
                             कैसे बदलाव ला सकते हैं ?
                                                       समाज में ,
                               जब हम स्वयं 
                                       बदलने को तैयार नहीं.
                             क्या हो ?
                                    इस समस्या का सुलझाव ,
                                    यही प्रशन अटका है 
                                                              सम्मुख आज .
                                   गर सुधार ले "कायत" 
                                     हम अपने आपको ,
                                                         अपने विचारों को,
                                   तो खुद-बा-खुद
                                                   बदल जायेगा समाज .
                             तो खुद बा खुद बदल जायेगा समाज .                            

मंगलवार, दिसंबर 28, 2010

ANJANA DIL

                                                         ( अनजाना दिल )
                               किसी के दिल का क्या मालूम, 
                                                                      खुद अपना दिल अनजाना है - २
                          खुशियों को छुपाया जिसने , 
                                                              वो गम की काली परछाइयाँ हैं .
                        इस दिल की थाह कौन पाए ,
                                                               सागर से भी अधिक गहराइयाँ हैं .
                        दिल आखिर शै है क्या ,
                                                            जिसपे  बनाया हर  किसी ने  तराना है.
                          किसी के दिल ..............................................................
               दिल का झांसा ही कुछ ऐसा है, 
                                                         बसे -बसायों को कर देता है बर्बाद .
                 हुस्नों शवाब में जो भी डूबा ,
                                                         फिर हो पाया ना आबाद .
                मत बिसर हसीं चेहरों की रौनक में, 
                                                               जिनकी शिरकत में तडपाना है .
                          किसी के दिल .............................................................
                            आनी- जानी जिंदगियों  का मेला ,
                                                                           जिसमे मेरा भी एक डेरा है .
                            न मैं किसी की चाहत हूँ ,
                                                                           न कोई  चाहत-ऐ-नूर मेरा है .
                           पल भर के लिए ठहरा " कायत" ,
                                                                          बस दिल को ये समझाना है .
                           किसी के दिल ..................................................................
                                                          खुद अपना दिल अनजाना है .       


                      BISARTI RAAHEN                  

सोमवार, दिसंबर 27, 2010

SOCH - SAMAZH

                                                           ( सोच - समझ )

                                               ये हमारी मजबूरी है,
                                                  सोचने व समझने में
                                                     दूरी है ....         -२
                                                   तभी तो.. ,
                                                           हमारी वास्तविक
                                                    " जीवन - गीता "
                                                  अभी तक अधूरी है .                                                                                        
                                           ये हमारी ....................
                                            सोच तो हम लेते हैं
                                            कि ..
                                          समाज में
                                           परिवर्तन लायेंगें ,
                                          इन फैली हुई
                                          कुरीतियों और बुराइयों को
                                                      दूर  भगायेंगे .
                                         लेकिन ........
                                                      जब  हम
                                         समझ लेतें हैं
                                           कि ...
                                          इससे हम अपने ही
                                           निजी लाभों व
                                                      स्वार्थों को
                                            क्षति पहुंचाएंगे ,
                                            तो हम ....
                                           त्याग देते हैं
                                            परिवर्तन के विचार को ,
                                           और .......
                                           फिर से
                                                     रम जाते हैं
                                          स्वर्ग समझ कर
                                          अपने इसी
                                                       नश्वर संसार को... .
                                        अपने इसी नश्वर संसार को.                                                                                                                                                                                                                                                                                                        
                                                                                         : - कृष्ण कायत

PARDA

                                                            " पर्दा "
                                  
                         असलियत पे पर्दा पड़ा है,
                                                                झूठ बेनकाब खड़ा है .
                     झूठ को सत्य समझते हैं,
                                                              सत्य लगता है झूठा .
                   कर्म हमारे असफल हुए ,
                                                          दोष है कि विधाता रूठा .
                 कल था जो नाली का पत्थर,
                                                         आज कंगूरे जा चढ़ा  है .
                असलियत पे पर्दा ................................................

                                            दुश्मन को दोस्त कहें ,
                                                                                      या दोस्त को दुश्मन .
                                        स्पष्ट हैं भाव दुश्मन के ,
                                                                                     दोस्त की गद्दारी पे है चिलमन .
                                  जाहिर  दुश्मन की नहीं परवाह ,
                                                                                    दोस्त में छिपा दुश्मन बड़ा है .
                                 असलियत पे पर्दा ......................................................................


                  मृगमरीचिका मैदान है जहान ,  
                                                                           मन बहलावें ख्वाब  हैं .
                     प्रश्नों का तांता लगा है ,
                                                                     न किसी के पास कोई जवाब हैं .
        जिस स्वाभिमान में ज़माने से टकराया,
                                                             वो स्वाभिमान  ही मुझपे भारी पड़ा है .
              असलियत पे पर्दा पड़ा है ,
                                                        झूठ बेनकाब खड़ा है .
              असलियत पे पर्दा ..........................................................

                                                                                                       : -  कृष्ण कायत
                                                                                                                  
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...