सोमवार, जनवरी 31, 2011

GAM KE TOOFAN

                " ग़म के तूफान "
                 ग़म के तूफां ,
                      आ के हम से
                                            ये कह गए ,
              दिल के अरमां ,
                        दिल में ही 
                                             रह गए ,
            कितनी हसरतों से ,
                          बनाया  था मैंने 
                                                   प्यार का आशियाँ ,
             गाफिल खुशियों में ,
                            कितनी हसीं ,
                                                 लगती थी दुनिया ,
              इस तूफाने सैलाब में ,
                                     सारे खवाबों के 
                                                  महल  बह गए ,  
            ग़म के तूफां ..........................................
             चले जो मंजिल को ,
                                                   था खुशियों भरा काफिला ,
             जाने - अनजाने प्यार के ,
                                                     तरानों  से था दिल खिला ,
           तूफां जो थमा   तो ,
                                                कोई हमसाया न मिला ,
            इस वीराने अंधियारे में ,
                                                  हम अकेले रह गए ,
           ग़म के तूफां ..............................................!      

SHARAFAT

                       { शराफ़त }
             शराफ़त का जमाना नहीं,
                                             हकीकत है ये कोई अफसाना नहीं ,
          मेरे  गमों  का इलाज  ,
                                          कोई मयखाना   नहीं ,
           किसी  को अपना दर्द ,
                                             मैं  चाहता   बताना  नहीं ,
           दुसरो पे हँसना  जानते  हैं सब  ,
                                              जानता  कोई  हँसाना  नहीं ,
           दिल  में 'कायत '  कांटे  चुभे हैं , 
                                                   पर   हाथों   में   है  फूल  ,
           सिल  रख अपने ग़मों पे ,
                                            हम जहां को खुश करने में हैं मशगूल,
          हमें कोई दुःख-दर्द नहीं ,
                                            ये समझना आपका  भारी है    भूल ,
            देख लिया पहचान लिया ,
                                                     अब दुनिया से अनजाना नहीं ,
          शराफ़त का जमाना नहीं ,
                                            हकीकत है ये कोई अफसाना नहीं !
     

गुरुवार, जनवरी 27, 2011

AKELA NAHI HOON

                       [अकेला नहीं हूँ ]
         इस अनजाने ,
                             सुनसान और वीराने ,
           जहां में , 
                         मैं अकेला नहीं हूँ .
                  मैं ही नहीं ,
                     यहाँ मेरे ,
                                                जीवन की गहराइयाँ  भी हैं, 
             फिर मैं अकेला कहाँ ,
                                             मेरे साथ मेरी तन्हाईयाँ भी हैं ,
             कुछ पुरानी यादें , 
                                           कुछ अधूरे वादे ,
            कदम चले हैं ,
                                  जिस डगर पर ,
            हैं धुंधले से रास्ते ,
                                        शायद मंजिल से मिला दे ,
             ठोकरों में जमाने की आए जो ,
                                                    वो डेला नहीं हूँ ,
             इस अनजाने   -----------------------------
         गैरों  में  रहकर  वफा  का ,
                                                 गिला  तो  न  होगा , 
        अपना कहलाने वालो ने दिया जो ,
                                                     वो सिला  तो न  होगा .
            समझा रहें हैं ये  रास्ते ,
                                                     कुछ नए आयाम ,
             कुछ खोना कुछ पाना, 
                                               बस इसी का जिंदगी है नाम, 
            मेरी तक़दीर पर रहम कर, 
                                                और बोझ न डालो मुझ पर ,
         इतना बोझ उठा सकूं  जो ,
                                                  मैं कोई ठेला नहीं हूँ ,
           इस अनजाने ,
                                    सुनसान और वीराने ,
             जहां में ,
                                     मैं अकेला नहीं हूँ ,
         मैं अकेला नहीं हूँ....'                                        


मंगलवार, जनवरी 04, 2011

ZINDGANI

                                                   ( जिंदगानी )
                    कोई जिंदगी को ,
                                   'संघर्ष' का नाम देता है ,
                    तो कोई उसे ,
                                  जंग-ऐ- जद्दोजहद कहता है ,
                  कोई उसे 
                             ' सुहाने सफ़र ' 
                                      की उपमा देता है ,    
               तो कोई उसे 
                              ' प्यार का गीत ' 
                                                        कहता है ,
                 आखिर ये जिंदगी है क्या ?   .....
                                       जानना चाहता हूँ मैं ,
                                     पहचानना चाहता हूँ मैं ,
              शायद ज़ल्द ही 
                                  मिल जाये 
                                          मेरे सवाल का ज़वाब ,
          या मिल जाए  
                                  मिट्टी में
            मै और 
                                    मेरा ये ख़वाब .
              आखिर ये जिंदगी है क्या .......................  ?                                                   

ASTITAV

                              (अस्तित्व) 
             ग़र तकरार ही न हो ,
                                                                    तो प्यार भी न हो ,
                         ग़र पतझड़ ही न हो ,
                                                                    तो बह़ार भी न हो ,
                           इस दुनिया में ,
                                                                कुछ   गद्दार हैं ,
                       तभी अस्तित्व में , 
                                                                 कुछ वफादार हैं ,
                       बहुते बेईमान हैं ,
                                                                 कुछ इमांदार हैं ,
                     ग़र दुनिया  में बुरे न हो ,
                                                                 तो कैसे कहें फलां अच्छा है ,
                    ग़र दुनिया में झूठ न हो ,
                                                               तो कैसे कहें बयाँ सच्चा  है ,                       
                   कैसे बोलें किसी विपक्ष में ,
                                                               जब उसके पक्ष का पता न हो ,
                 कौन करे मुआफ किसी को ,
                                                               जब किसी से कोई खता न हो ,
                वो क्या राह दिखाएगा "कायत",
                                                              जिसे खुद का  अता-पता न हो , 
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...