शुक्रवार, फ़रवरी 25, 2011

विश्वास की लौ

    " विश्वास की लौ"
 
विचार टूटते रहते हैं ,
विचार बनते रहते हैं ,
विचारों का क्या है?
विचार तो विचार हैं ,
हमारे मनों के रूप- संचार हैं ,
नहीं टूटना चाहिए वो बंधन ,
जो विश्वास से बनता है,
प्यार में पलता है ,
सहयोग से चलता है ,
इस बंधन से ही
तो समाज बना है ,
जो भाईचारे और
एकता में ढला है ,
देश की उन्नति व
विकास में ,
सहायक है विश्वास ,
राष्ट्र की एकता व
प्रगति में
सहायक है विश्वास ,
क्यों आज
नैतिकता गिर गई है ,
सामाजिक मूल्यों व
जीवन- स्तर में
गिरावट आई है ,
इन सब के पीछे
जो कारण है वो ..
कि उठ गया है विश्वास ,
आदमी का आदमी से ,
माँ- बाप का संतान से ,
भाई का बहन से ,
बहन का भाई से ,
घट गया है विश्वास ,
अपने - आप में ,
इस जहान में
और भगवान में ,
अराजकता फ़ैल रही है,
आज जहान में ,
"कायत " चुप क्यों है फिर ?
इस घुटन व उफान में ,
जब देश की
बेपतवारी नाव ,
घिर रही हो तूफ़ान  में ,
कुछ न कुछ
तो करना होगा ,
रौशनी के लिए
जलना होगा ,
विश्वास की जोत
जलानी है ,
जन -जन तक
पहुँचानी है ,
हर कोई गाए
विश्वास के गीत ,
तभी होगी
लेखनी की जीत ,
तभी होगी लेखनी की जीत .... 






चाहतों के मेले में

                    "  चाहतों के मेले में "
     
          चाहतों के मेले में ,
                                                 " कायत" क्यों अकेले में ,
बढ़ता रह जिन्दगी के सफ़र में ,
                                               दुःख तकलीफों से न घबराना,
पिए जा विष ग़मों का ,
                                               पर नैनों से न नीर टपकाना ,
मत तलाश साथ यहाँ पे ,
                                          बना आशियाँ अम्बर अलबेले में ,
चाहतों के मेले में ..............................................

जालिम दुनिया न मीत किसी की ,
                                                   भूल के भी न दिल लगाना ,
 वज्र रूप बना ह्रदय को ,
                                                  छोड़ दिलासों से मन बहलाना ,
चिंता निराशा त्याग दे ,
                                                    क्यों उलझता है झमेले में ,
चाहतों के मेले में ..................................................       

बुधवार, फ़रवरी 23, 2011

ANJANA DIL

                    [ अनजाना दिल ]
ऐ मेरे अनजाने दिल ,
                                   इतना क्यों तू है उदास ,
सही तुने कितनी पीड़ा ,
                                 हर पथ पे जखम खाता रहा,
खवाहिशें पाली और मिटाई ,
                         अरमां खून से दीपक जलाता रहा, पिया तुने विष ग़मों का ,
                         फिर भी बुझी न तेरी प्यास ,
ऐ मेरे अनजाने दिल ....................................
मरहम न करेगा कोई ,
                        हर चेहरा जखम नया दे जायेगा,
पत्थर दिलों की है ये दुनिया ,
                       मत टकरा, नहीं तो मात खायेगा,
न ही उमंगें न ही तरंगे ,
                            चलती फिरती तेरी लाश,
ऐ मेरे अनजाने दिल ........................   
मृग - मरीचिका मैदान है जहाँ ,
                                 असलियत में न पानी है ,
सर्वस्व जान कर भी भटके,
                                    मासूम तेरी नादानी है ,
 कर ले किनारा जिन्दगी से ,
                                 छोड़ दे जीने की आस ,
ऐ मेरे अनजाने दिल ...................................

रविवार, फ़रवरी 20, 2011

                          "जिन्दगी"                                                                               क्या खूब है हमें ये जिंदगानी मिली,
हर तरफ से ही हमें तो निराशा परेशानी मिली,
छाया है मातम  गमों का,
ना खुशियों का कोई चाव है,
साहिल तक पहुँच  ना पाया  मै,
सफ़र की हर  राह रात तूफानी मिली 
क्या खूब है .......................
एक तो  रेगिस्तानी जिन्दगी ,
फिर मंजिल का है दूर रास्ता, 
अंधियारों  में ही घिरा हुआ हूँ ,
ना उजाले से है कोई वास्ता ,
क्या लिखूं क्या ना लिखूं ?
पूरी ना कर सका वो कहानी मिली ,
क्या खूब..........................
शीतल हवा का मंद झोका ही,
लगता दिल को  तूफान है, 
कहता कोई स्वर्ग है दुनिया ,
कहता कोई  उद्यान है,
हमे तो जब BHI मिली ,
ये दुनिया वीरानी  मिली,
क्या खूब है हमे यह जिन्दगी मिली.
  

मिज़ाज

               "    मिज़ाज  "
         बदला- बदला मिजाज़ है,
                                               तेरी बेवफाई में कोई राज़ है
    मुझसे  क्या कसूर हुआ, 
                                                मेरी किस बात से खफा हो तुम,
   बिना बताये मैं क्या जानूं ,
                                                भ्रांतियों के किस दायरे में हो ग़ुम ,
   चंद रोज़ का रुतबा तेरा,
                                              जिस पर इतना नाज़ है,
   बदला-बदला मिज़ाज ...................................................
               
    सितमगर न डाह सितम इतना ,

                                                     तडपाहट में दर्द कम ना होगा ,
  तूँ क्या जाने जुदाई का गम,
                                                   पहलू में तेरे गम ना होगा ,
   कोई आंच ना आए तुझ पर,
                                              "कायत" ये जख्मी दिल की आवाज है,
    बदला-बदला मिज़ाज है,
                                         तेरी बेवफाई में कोई राज़ है...............

रविवार, फ़रवरी 06, 2011

VIRANAGI

                    "वीरानगी"
                       इस वीरानी दुनिया में,
                        कुछ खवाब हसीं 
                       संजोना चाहता हूँ मैं ,
                       सुख न दे सकूँगा तो क्या,
                         दुःख तो बाँट लूँगा मैं ,
                      जीवन - पथ में
                       कांटे बिछे हैं,
                         फूल न बिछा सका तो क्या,
                             कांटे तो छांट लूँगा मैं ,
                             महक उठे आलम, 
                        जिनकी खुशबु से ,
                      ऐसे  फूल बोना चाहता हूँ मैं,
     इस वीरानी -------------------------------------
                   समुन्द्र में रहकर  भी ,
                    प्यासा है कोई  ,
                   महफ़िलों  में तन्हाई का, 
                   बना तमाशा है कोई ,
                   दुःख भंवर से निकाल जहां को ,
                     प्रेम सागर में डुबोना चाहता हूँ मैं ,
                    इस   वीरानी दुनिया में ,
              कुछ खवाब हसीं ,संजोना चाहता हूँ मैं,
               इस वीरानी -------------------------------    

CHAHAT KE SAHARE

              [ चाहत के सहारे ]
             मंजिल    को  तलाशता ,
              दुर्गम राहों को लांघता, 
            जिन्दगी में घुले 
            ज़हर को ,
             पानी की  तरह 
              पीए जा रहा हूँ, 
           न पूछे मुझसे कोई, 
         कि मैं 
          " इक चाहत "
            लेकर जिए जा रहा हूँ ,
             यूँ तो सभी 
             चाहतें लेकर ही जीते होंगे, 
               पर मैं ,
              जो हासिल न कर सका,
                उसी की चाह में 
                 जिए जा रहा हूँ ,
                 काश कोई
                वक़त आये !
                जो मेरी मायूसियों को
                ख़तम करके,
                   मुझे जीने की ,
                     नयी राह दे- दे, 
                   इस दुनिया में ,
                   रहने का दिल नहीं रहा ,
                   बसने के लिए ,
                  अपने दिल में ,
                      ज़गह दे - दे , 
             अपने दिल में ज़गह दे -दे .
          

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...