शनिवार, मई 14, 2011

" गैर "

                         " गैर "
   महफ़िल में इक रोज़ ,
                                           बैठे थे गैरों की हम ,
    कोई दोस्त नज़र नहीं आया ,
                                             बस यही था गम ,
    फिर इक दिन महफ़िल ,
                                           थी दोस्तों की लगी ,
    क्या ये ही हैं अपने ? ,
                                          भावना मन में जगी ,
    अपने और गैर में ,
                                               भेद कर न पाया ,
    अपनों से भी अधिक गैर ,
                                          अच्छा और सच्चा नजर आया ,
    ये गैर ही हैं जो जीवन की ,
                                                 वास्तविकता  दर्शाते हैं ,
   गैर ही कंटीले राहों पे ,
                                                  चलना सिखाते हैं ,
   गैर जो करते हैं ,
                                                 सरे - आम करते हैं ,
    अपने ही हैं जो ,       
                                        छिप कर बदनाम करते हैं , 
    दिल ने कहा अपने तो ,
                                           फिर भी अपने होते हैं ,
   गैरों  के भरोसे तो बस ,
                                              सिर्फ सपने होते हैं ,
   आखिर गैर हैं कौन ,
                                              ये प्रकृति भी है मौन ,
  जान कर भी सर्वस्व ,
                                                मैं इतना अनजान हूँ ,
  संगमरमर सी मूक ,
                                                शिला की पहचान हूँ ,
  अस्थि -युग ने ये आजमाया है ,
                                                जगत मोह -माया ने भरमाया है, 
  अकेले  आये अकेले जाना ,
                                                    सब कुछ यहीं धरा -धराया है ,
   अपना यहाँ पे कुछ नहीं "कायत",
                                                         जो है सब पराया है .,    
                         जो है सब पराया ................    



" आरजू "

                              " आरजू "
  चमकती रेत में ,
                          पानी का सिर्फ धोखा  था ,
   मैंने समझा मेरा हमदम  है,
                                    पर वह तो हवा का झोंका था ,
 
       जिसकी  दस्तक से मैं चौंका था .

                जिनके दीदार को,  
                                                             तरसती थी आँखें ,
               जो होते वो सामने ,
                                                    तो खिल जाती थी बांछे ,
               पर जाने वाले ,
                                                        कब मुड़ कर आते हैं ,
              उनके तो वादे ही ,
                                                          दिल को तड़पाते हैं ,
              लाख  यतन  करें ,
                                                         चाहें छिपाने का ,
               पर ये गम ,
                                                       कहाँ छिप पाते  हैं ,
              इन्हीं विचारों में डूब ,
                                                      ख्यालों में खो गया ,
           आरज़ू लिए मिलन की ,
                                     
                                          "कायत" गहन निद्रा में सो गया ,  

            

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...