रविवार, जनवरी 29, 2012

" आस "

                                            " आस "
         जीत जाने की आस ,
             करती है हर बार निराश 
          फिर भी इंतजार है हर पल 
           आएगा एक नया कल .........
          जो जीना सिखा जाये 
           या  सफलता अभी दूर है 
           ये अहसास करा जाये ...............
          पर हम समय के दास 
           मन में लिए आस 
            तलाशते हैं कुछ पल 
        ज़रूर जीत जायेंगे 
          गर मिल जाएँ 
         यहाँ कुछ और कल ....................    



वक्त

                          वक्त   
           सुलझा देंगे तेरी जुल्फों को 
               किसी दिन ,
              गर वक्त मिला तो ...............
              फ़िलहाल अभी तो मैं 
                वक्त को 
                सुलझाने में लगा हुआ हूँ ............................
                                                      
                                                 
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...