सोमवार, अप्रैल 16, 2012

" मतलब की दुनिया "

                   " मतलब की दुनिया "


मतलब  की है दुनिया यारो
                                           मतलब की है दुनिया ....
ये न किसी के मीत हैं
                                     न इनकी किसी से प्रीत है ,
रिश्ते -नाते अपना -पराया
                                      सब झूठी जग की रीत है ,  
अपना न बनेगा कोई यहाँ
                                                           चाहे इन पे जान भी वारो  ,

मतलब की है दुनिया यारो .................................

अपने मतलब के लिए
                                        प्रेम भी दर्शाते हैं लोग ,
अपने मतलब के लिए
                                      पत्थर को भी लगाते हैं भोग ,  
अपने मतलब के लिए 
                                            फूल भी बरसाते हैं लोग , 
मतलब निकल जाने पर 
                                         पत्थर भी बरसाते हैं लोग ,
बिना  मतलब न सुनेगा कोई 
                                                               चाहे चीख- चीख  कर पुकारो ,   


मतलब की है दुनिया यारो .................................


                        
    

9 टिप्‍पणियां:

  1. कल 27/04/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. Honsla badhane ke liye Bahut bahut dhanyavad ji............................................

    उत्तर देंहटाएं
  3. सच बिना मतलब कुछ नहीं होता ...
    बहुत अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. Kavita ji aur Sangita ji , aap dono ka bahut bahut dhanyavad....................

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...