मंगलवार, दिसंबर 28, 2010

ANJANA DIL

                                                         ( अनजाना दिल )
                               किसी के दिल का क्या मालूम, 
                                                                      खुद अपना दिल अनजाना है - २
                          खुशियों को छुपाया जिसने , 
                                                              वो गम की काली परछाइयाँ हैं .
                        इस दिल की थाह कौन पाए ,
                                                               सागर से भी अधिक गहराइयाँ हैं .
                        दिल आखिर शै है क्या ,
                                                            जिसपे  बनाया हर  किसी ने  तराना है.
                          किसी के दिल ..............................................................
               दिल का झांसा ही कुछ ऐसा है, 
                                                         बसे -बसायों को कर देता है बर्बाद .
                 हुस्नों शवाब में जो भी डूबा ,
                                                         फिर हो पाया ना आबाद .
                मत बिसर हसीं चेहरों की रौनक में, 
                                                               जिनकी शिरकत में तडपाना है .
                          किसी के दिल .............................................................
                            आनी- जानी जिंदगियों  का मेला ,
                                                                           जिसमे मेरा भी एक डेरा है .
                            न मैं किसी की चाहत हूँ ,
                                                                           न कोई  चाहत-ऐ-नूर मेरा है .
                           पल भर के लिए ठहरा " कायत" ,
                                                                          बस दिल को ये समझाना है .
                           किसी के दिल ..................................................................
                                                          खुद अपना दिल अनजाना है .       


                      BISARTI RAAHEN                  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...