शुक्रवार, दिसंबर 31, 2010

ASHANTI

                                                   अशांति
                        तृष्णा में खोए हैं सब ,
                                            न किसी के मन को शांति है .
                 जितना पा लेता है जो ,
                                                  उतना ही खो देता है वो .
                 पाता है वो भौतिकता को ,
                                                  खो देता है नैतिकता को .
          सुख खोज रहा धन - दौलत में ,
                                                  ये उसके दिल की भ्रान्ति है .
              तृष्णा में खोए ........................................................
        "कायत" , मानवता की सोचें ,
                                              न धन के पीछे दौड़ें सब .
       प्रेम -मिलाप का सबक सीखें ,
                                             ईर्ष्या-द्वेष को छोड़ें अब .
        पहले आजादी तन की पाई ,
                                           ये मन की आजादी की क्रांति है.
         तृष्णा में खोए हैं सब , न किसी के मन को शांति है.
                                         न किसी के मन को शांति है.            
                                 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...