बुधवार, दिसंबर 29, 2010

BADLAV

                                                            बदलाव 
             बदल डालो !
                                   ऐसे भ्रष्टाचारी समाज को ,
                 जहां भगवान भी लुटता है.
                  पैसे से,  
                     प्यार व ईमान बिकता है .
                   हम कैसे भर सकते हैं ?
                                                किसी में ,
                         राष्ट्र प्रेम की भावना 
                  जब हमें खुद देश से प्यार नहीं .
                             कैसे बदलाव ला सकते हैं ?
                                                       समाज में ,
                               जब हम स्वयं 
                                       बदलने को तैयार नहीं.
                             क्या हो ?
                                    इस समस्या का सुलझाव ,
                                    यही प्रशन अटका है 
                                                              सम्मुख आज .
                                   गर सुधार ले "कायत" 
                                     हम अपने आपको ,
                                                         अपने विचारों को,
                                   तो खुद-बा-खुद
                                                   बदल जायेगा समाज .
                             तो खुद बा खुद बदल जायेगा समाज .                            

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...