सोमवार, दिसंबर 27, 2010

PARDA

                                                            " पर्दा "
                                  
                         असलियत पे पर्दा पड़ा है,
                                                                झूठ बेनकाब खड़ा है .
                     झूठ को सत्य समझते हैं,
                                                              सत्य लगता है झूठा .
                   कर्म हमारे असफल हुए ,
                                                          दोष है कि विधाता रूठा .
                 कल था जो नाली का पत्थर,
                                                         आज कंगूरे जा चढ़ा  है .
                असलियत पे पर्दा ................................................

                                            दुश्मन को दोस्त कहें ,
                                                                                      या दोस्त को दुश्मन .
                                        स्पष्ट हैं भाव दुश्मन के ,
                                                                                     दोस्त की गद्दारी पे है चिलमन .
                                  जाहिर  दुश्मन की नहीं परवाह ,
                                                                                    दोस्त में छिपा दुश्मन बड़ा है .
                                 असलियत पे पर्दा ......................................................................


                  मृगमरीचिका मैदान है जहान ,  
                                                                           मन बहलावें ख्वाब  हैं .
                     प्रश्नों का तांता लगा है ,
                                                                     न किसी के पास कोई जवाब हैं .
        जिस स्वाभिमान में ज़माने से टकराया,
                                                             वो स्वाभिमान  ही मुझपे भारी पड़ा है .
              असलियत पे पर्दा पड़ा है ,
                                                        झूठ बेनकाब खड़ा है .
              असलियत पे पर्दा ..........................................................

                                                                                                       : -  कृष्ण कायत
                                                                                                                  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...