सोमवार, दिसंबर 27, 2010

SOCH - SAMAZH

                                                           ( सोच - समझ )

                                               ये हमारी मजबूरी है,
                                                  सोचने व समझने में
                                                     दूरी है ....         -२
                                                   तभी तो.. ,
                                                           हमारी वास्तविक
                                                    " जीवन - गीता "
                                                  अभी तक अधूरी है .                                                                                        
                                           ये हमारी ....................
                                            सोच तो हम लेते हैं
                                            कि ..
                                          समाज में
                                           परिवर्तन लायेंगें ,
                                          इन फैली हुई
                                          कुरीतियों और बुराइयों को
                                                      दूर  भगायेंगे .
                                         लेकिन ........
                                                      जब  हम
                                         समझ लेतें हैं
                                           कि ...
                                          इससे हम अपने ही
                                           निजी लाभों व
                                                      स्वार्थों को
                                            क्षति पहुंचाएंगे ,
                                            तो हम ....
                                           त्याग देते हैं
                                            परिवर्तन के विचार को ,
                                           और .......
                                           फिर से
                                                     रम जाते हैं
                                          स्वर्ग समझ कर
                                          अपने इसी
                                                       नश्वर संसार को... .
                                        अपने इसी नश्वर संसार को.                                                                                                                                                                                                                                                                                                        
                                                                                         : - कृष्ण कायत

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...