गुरुवार, जनवरी 27, 2011

AKELA NAHI HOON

                       [अकेला नहीं हूँ ]
         इस अनजाने ,
                             सुनसान और वीराने ,
           जहां में , 
                         मैं अकेला नहीं हूँ .
                  मैं ही नहीं ,
                     यहाँ मेरे ,
                                                जीवन की गहराइयाँ  भी हैं, 
             फिर मैं अकेला कहाँ ,
                                             मेरे साथ मेरी तन्हाईयाँ भी हैं ,
             कुछ पुरानी यादें , 
                                           कुछ अधूरे वादे ,
            कदम चले हैं ,
                                  जिस डगर पर ,
            हैं धुंधले से रास्ते ,
                                        शायद मंजिल से मिला दे ,
             ठोकरों में जमाने की आए जो ,
                                                    वो डेला नहीं हूँ ,
             इस अनजाने   -----------------------------
         गैरों  में  रहकर  वफा  का ,
                                                 गिला  तो  न  होगा , 
        अपना कहलाने वालो ने दिया जो ,
                                                     वो सिला  तो न  होगा .
            समझा रहें हैं ये  रास्ते ,
                                                     कुछ नए आयाम ,
             कुछ खोना कुछ पाना, 
                                               बस इसी का जिंदगी है नाम, 
            मेरी तक़दीर पर रहम कर, 
                                                और बोझ न डालो मुझ पर ,
         इतना बोझ उठा सकूं  जो ,
                                                  मैं कोई ठेला नहीं हूँ ,
           इस अनजाने ,
                                    सुनसान और वीराने ,
             जहां में ,
                                     मैं अकेला नहीं हूँ ,
         मैं अकेला नहीं हूँ....'                                        


1 टिप्पणी:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...