मंगलवार, जनवरी 04, 2011

ASTITAV

                              (अस्तित्व) 
             ग़र तकरार ही न हो ,
                                                                    तो प्यार भी न हो ,
                         ग़र पतझड़ ही न हो ,
                                                                    तो बह़ार भी न हो ,
                           इस दुनिया में ,
                                                                कुछ   गद्दार हैं ,
                       तभी अस्तित्व में , 
                                                                 कुछ वफादार हैं ,
                       बहुते बेईमान हैं ,
                                                                 कुछ इमांदार हैं ,
                     ग़र दुनिया  में बुरे न हो ,
                                                                 तो कैसे कहें फलां अच्छा है ,
                    ग़र दुनिया में झूठ न हो ,
                                                               तो कैसे कहें बयाँ सच्चा  है ,                       
                   कैसे बोलें किसी विपक्ष में ,
                                                               जब उसके पक्ष का पता न हो ,
                 कौन करे मुआफ किसी को ,
                                                               जब किसी से कोई खता न हो ,
                वो क्या राह दिखाएगा "कायत",
                                                              जिसे खुद का  अता-पता न हो , 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...