सोमवार, जनवरी 31, 2011

SHARAFAT

                       { शराफ़त }
             शराफ़त का जमाना नहीं,
                                             हकीकत है ये कोई अफसाना नहीं ,
          मेरे  गमों  का इलाज  ,
                                          कोई मयखाना   नहीं ,
           किसी  को अपना दर्द ,
                                             मैं  चाहता   बताना  नहीं ,
           दुसरो पे हँसना  जानते  हैं सब  ,
                                              जानता  कोई  हँसाना  नहीं ,
           दिल  में 'कायत '  कांटे  चुभे हैं , 
                                                   पर   हाथों   में   है  फूल  ,
           सिल  रख अपने ग़मों पे ,
                                            हम जहां को खुश करने में हैं मशगूल,
          हमें कोई दुःख-दर्द नहीं ,
                                            ये समझना आपका  भारी है    भूल ,
            देख लिया पहचान लिया ,
                                                     अब दुनिया से अनजाना नहीं ,
          शराफ़त का जमाना नहीं ,
                                            हकीकत है ये कोई अफसाना नहीं !
     

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...