बुधवार, फ़रवरी 23, 2011

ANJANA DIL

                    [ अनजाना दिल ]
ऐ मेरे अनजाने दिल ,
                                   इतना क्यों तू है उदास ,
सही तुने कितनी पीड़ा ,
                                 हर पथ पे जखम खाता रहा,
खवाहिशें पाली और मिटाई ,
                         अरमां खून से दीपक जलाता रहा, पिया तुने विष ग़मों का ,
                         फिर भी बुझी न तेरी प्यास ,
ऐ मेरे अनजाने दिल ....................................
मरहम न करेगा कोई ,
                        हर चेहरा जखम नया दे जायेगा,
पत्थर दिलों की है ये दुनिया ,
                       मत टकरा, नहीं तो मात खायेगा,
न ही उमंगें न ही तरंगे ,
                            चलती फिरती तेरी लाश,
ऐ मेरे अनजाने दिल ........................   
मृग - मरीचिका मैदान है जहाँ ,
                                 असलियत में न पानी है ,
सर्वस्व जान कर भी भटके,
                                    मासूम तेरी नादानी है ,
 कर ले किनारा जिन्दगी से ,
                                 छोड़ दे जीने की आस ,
ऐ मेरे अनजाने दिल ...................................

1 टिप्पणी:

  1. मृग - मरीचिका मैदान है जहाँ ,
    असलियत में न पानी है ,
    सर्वस्व जान कर भी भटके,
    मासूम तेरी नादानी है ,............

    जीवन दर्शन से परिपूर्ण सुंदर रचना के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...