रविवार, फ़रवरी 20, 2011

मिज़ाज

               "    मिज़ाज  "
         बदला- बदला मिजाज़ है,
                                               तेरी बेवफाई में कोई राज़ है
    मुझसे  क्या कसूर हुआ, 
                                                मेरी किस बात से खफा हो तुम,
   बिना बताये मैं क्या जानूं ,
                                                भ्रांतियों के किस दायरे में हो ग़ुम ,
   चंद रोज़ का रुतबा तेरा,
                                              जिस पर इतना नाज़ है,
   बदला-बदला मिज़ाज ...................................................
               
    सितमगर न डाह सितम इतना ,

                                                     तडपाहट में दर्द कम ना होगा ,
  तूँ क्या जाने जुदाई का गम,
                                                   पहलू में तेरे गम ना होगा ,
   कोई आंच ना आए तुझ पर,
                                              "कायत" ये जख्मी दिल की आवाज है,
    बदला-बदला मिज़ाज है,
                                         तेरी बेवफाई में कोई राज़ है...............

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...