शुक्रवार, फ़रवरी 25, 2011

चाहतों के मेले में

                    "  चाहतों के मेले में "
     
          चाहतों के मेले में ,
                                                 " कायत" क्यों अकेले में ,
बढ़ता रह जिन्दगी के सफ़र में ,
                                               दुःख तकलीफों से न घबराना,
पिए जा विष ग़मों का ,
                                               पर नैनों से न नीर टपकाना ,
मत तलाश साथ यहाँ पे ,
                                          बना आशियाँ अम्बर अलबेले में ,
चाहतों के मेले में ..............................................

जालिम दुनिया न मीत किसी की ,
                                                   भूल के भी न दिल लगाना ,
 वज्र रूप बना ह्रदय को ,
                                                  छोड़ दिलासों से मन बहलाना ,
चिंता निराशा त्याग दे ,
                                                    क्यों उलझता है झमेले में ,
चाहतों के मेले में ..................................................       

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...