रविवार, फ़रवरी 06, 2011

CHAHAT KE SAHARE

              [ चाहत के सहारे ]
             मंजिल    को  तलाशता ,
              दुर्गम राहों को लांघता, 
            जिन्दगी में घुले 
            ज़हर को ,
             पानी की  तरह 
              पीए जा रहा हूँ, 
           न पूछे मुझसे कोई, 
         कि मैं 
          " इक चाहत "
            लेकर जिए जा रहा हूँ ,
             यूँ तो सभी 
             चाहतें लेकर ही जीते होंगे, 
               पर मैं ,
              जो हासिल न कर सका,
                उसी की चाह में 
                 जिए जा रहा हूँ ,
                 काश कोई
                वक़त आये !
                जो मेरी मायूसियों को
                ख़तम करके,
                   मुझे जीने की ,
                     नयी राह दे- दे, 
                   इस दुनिया में ,
                   रहने का दिल नहीं रहा ,
                   बसने के लिए ,
                  अपने दिल में ,
                      ज़गह दे - दे , 
             अपने दिल में ज़गह दे -दे .
          


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...