रविवार, फ़रवरी 06, 2011

VIRANAGI

                    "वीरानगी"
                       इस वीरानी दुनिया में,
                        कुछ खवाब हसीं 
                       संजोना चाहता हूँ मैं ,
                       सुख न दे सकूँगा तो क्या,
                         दुःख तो बाँट लूँगा मैं ,
                      जीवन - पथ में
                       कांटे बिछे हैं,
                         फूल न बिछा सका तो क्या,
                             कांटे तो छांट लूँगा मैं ,
                             महक उठे आलम, 
                        जिनकी खुशबु से ,
                      ऐसे  फूल बोना चाहता हूँ मैं,
     इस वीरानी -------------------------------------
                   समुन्द्र में रहकर  भी ,
                    प्यासा है कोई  ,
                   महफ़िलों  में तन्हाई का, 
                   बना तमाशा है कोई ,
                   दुःख भंवर से निकाल जहां को ,
                     प्रेम सागर में डुबोना चाहता हूँ मैं ,
                    इस   वीरानी दुनिया में ,
              कुछ खवाब हसीं ,संजोना चाहता हूँ मैं,
               इस वीरानी -------------------------------    

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...