शनिवार, मई 14, 2011

" आरजू "

                              " आरजू "
  चमकती रेत में ,
                          पानी का सिर्फ धोखा  था ,
   मैंने समझा मेरा हमदम  है,
                                    पर वह तो हवा का झोंका था ,
 
       जिसकी  दस्तक से मैं चौंका था .

                जिनके दीदार को,  
                                                             तरसती थी आँखें ,
               जो होते वो सामने ,
                                                    तो खिल जाती थी बांछे ,
               पर जाने वाले ,
                                                        कब मुड़ कर आते हैं ,
              उनके तो वादे ही ,
                                                          दिल को तड़पाते हैं ,
              लाख  यतन  करें ,
                                                         चाहें छिपाने का ,
               पर ये गम ,
                                                       कहाँ छिप पाते  हैं ,
              इन्हीं विचारों में डूब ,
                                                      ख्यालों में खो गया ,
           आरज़ू लिए मिलन की ,
                                     
                                          "कायत" गहन निद्रा में सो गया ,  

            

1 टिप्पणी:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...