शनिवार, मई 14, 2011

" गैर "

                         " गैर "
   महफ़िल में इक रोज़ ,
                                           बैठे थे गैरों की हम ,
    कोई दोस्त नज़र नहीं आया ,
                                             बस यही था गम ,
    फिर इक दिन महफ़िल ,
                                           थी दोस्तों की लगी ,
    क्या ये ही हैं अपने ? ,
                                          भावना मन में जगी ,
    अपने और गैर में ,
                                               भेद कर न पाया ,
    अपनों से भी अधिक गैर ,
                                          अच्छा और सच्चा नजर आया ,
    ये गैर ही हैं जो जीवन की ,
                                                 वास्तविकता  दर्शाते हैं ,
   गैर ही कंटीले राहों पे ,
                                                  चलना सिखाते हैं ,
   गैर जो करते हैं ,
                                                 सरे - आम करते हैं ,
    अपने ही हैं जो ,       
                                        छिप कर बदनाम करते हैं , 
    दिल ने कहा अपने तो ,
                                           फिर भी अपने होते हैं ,
   गैरों  के भरोसे तो बस ,
                                              सिर्फ सपने होते हैं ,
   आखिर गैर हैं कौन ,
                                              ये प्रकृति भी है मौन ,
  जान कर भी सर्वस्व ,
                                                मैं इतना अनजान हूँ ,
  संगमरमर सी मूक ,
                                                शिला की पहचान हूँ ,
  अस्थि -युग ने ये आजमाया है ,
                                                जगत मोह -माया ने भरमाया है, 
  अकेले  आये अकेले जाना ,
                                                    सब कुछ यहीं धरा -धराया है ,
   अपना यहाँ पे कुछ नहीं "कायत",
                                                         जो है सब पराया है .,    
                         जो है सब पराया ................    



2 टिप्‍पणियां:

  1. ये गैर ही हैं जो जीवन की ,
    वास्तविकता दर्शाते हैं ,
    गैर ही कंटीले राहों पे ,
    चलना सिखाते हैं ,
    बेहतरीन प्रस्तुति | गैरों से वाकई बहुत कुछ सीखने को मिलता है |

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूबसूरती से पूरा जीवन दर्शन कह दिया ...सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...