रविवार, जनवरी 29, 2012

वक्त

                          वक्त   
           सुलझा देंगे तेरी जुल्फों को 
               किसी दिन ,
              गर वक्त मिला तो ...............
              फ़िलहाल अभी तो मैं 
                वक्त को 
                सुलझाने में लगा हुआ हूँ ............................
                                                      
                                                 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...