सोमवार, अप्रैल 16, 2012

मेरे महबूब

       

         " मेरे महबूब "

                              
  तुमको ही मैं  अपना दिल
                                       अपनी जान मानता हूँ ,
बसे हो तुम मेरी सांसों  में  
                                        तुम ही  मेरा ख्वाब हो, 
मेरे अरमानों व ख्वाहिशों का
                                         तुम ही एक जवाब हो ,
मेरे प्रेम की दुनिया हो तुम
                                       बस इतना ही जानता हूँ ,

तुमको ही अपना दिल ............................................

मेरी चाहत प्यार तेरा
                                      तेरा स्नेह सागर ही प्यास है ,
तुझसे महके गुलशन दिल का
                                      तू ही मेरे जीवन की आस है ,
मांगे दुनिया महबूब  खुदा से
                               महबूब मेरे  मैं तुझको तुझसे मांगता हूँ ,

तुमको ही अपना दिल ...............................................  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...