शनिवार, मई 19, 2012

"झूठा सनम"

      "झूठा सनम"
 
मेरी कसम उठाकर दुनिया के आगे ,
कर दिया मेरे प्यार से इन्कार उसने
एक दिन इसी दुनिया की कसम उठाकर ,
मुझसे प्यार का किया था इकरार जिसने
ऐ जिन्दगी तू ही बता ...............
उसकी किस कसम का एतबार करूँ मैं
समझा न जिसने नफरत के काबिल भी मुझे
क्या उसी से अब प्यार करूँ मैं ?
जान गया इस दुनिया में
बस नाटक है ये प्यार
कसमें ,वादे ,प्यार , मोहब्बत .........
सब झूठ का है व्यापार
गफलत में जीता रहा अबतलक
सच का कड़वा घूँट ये पीऊँ कैसे
जिंदगी बन गया जो ....
चाहे झूठा ही निकला ,
उस सनम के बिना अब जीऊँ कैसे
उस सनम के बिना अब जीऊँ कैसे ..........
        कृष्ण कायत     http://krishan-kayat.blogspot.com/

7 टिप्‍पणियां:

  1. कल 21/05/2012 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रेमकी अथाह पीड़ा को शब्द दिए है..
    बेहतरीन भावपूर्ण रचना...

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...