बुधवार, मार्च 23, 2016

रंग बदलते
लोगों के
रंग लगाऊं
क्या मैं यार
मतलब के लिए
जताते हैं
अपनापन
कैसे कह दूं
इसको प्यार
अरमान उमंगें
दमित हैं मन में
कुत्सित कुंठा का
हुआ प्रसार
उच्छश्रृंखलता और
फूहड़पन है
अय्याशी के
सजे हैं बाजार
पाप-पुण्य के
अर्थ हैं बदले
कैसा पावन
है ये त्यौहार
रंग बदलते
लोगों के
रंग लगाऊं
क्या मैं यार...........
  कृष्ण कायत

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...