बुधवार, अप्रैल 17, 2013

आरजू

            आरजू 

चमकती रेत  में
पानी का सिर्फ धोखा था 
मैंने समझा मेरा हमदम है 
पर वह तो हवा का झौंका था 
जिसकी दस्तक 
सुन कर मैं चौंका था 
जिनके दीदार को 
तरसती थी आँखें 
जो होते वो सामने 
तो खिल जाती थी बाँछे 
पर जाने वाले 
कब मुड़  कर आते हैं 
उन संग बिताये लम्हें ही 
दिल को तड़पाते हैं 
छुपाने का लाख 
प्रयत्न करते हैं 
पर ये ग़म 
कहाँ छुप पाते हैं 
इन्हीं विचारों में डूब 
ख्यालों में खो गया 
आरजू लिए मिलन की 
"कायत " 
गहन निद्रा में सो गया ...


1 टिप्पणी:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...